About us

नमस्कार

हमारा नाम दिलीप पटेल है ,हम महाराष्ट्र के ठाणे शहर के रहने वाले है।

इस ब्लॉग साइट को बनाने का उदयेष ये है हम आप सभी तक हमारे सर्व श्रेठ
सनातन धर्म से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी आप तक पहुँचा सके,
ऐसी बहुत सी चीजे और जानकारिया है जो आपको या आपके सगे सम्बन्धिओ को नहीं पता होगी।
ो सभी विशेष प्रकार की जानकारिया हम आप तक पहुचायेगे।
आप हमसे हमेसा जुड़े रहे इसके लिए हम निरंतर कार्यरत है
इस ब्लॉग साइट पर आपको हमारे सभी तीर्थ स्थान , सभी प्रकार के धर्म योद्धा जिन्होंने हमारे धर्म की रक्षा के लिए अपने बलिदान दिए,
धर्म संस्थापना के लड़ाई लड़ी , मंदिरो का निर्माण करवाया , उनकी जानकारी हम आपको अपने इस ब्लॉग के माध्यम से प्रदान करेंगे और
विशेषतः हम आपको हमारे सभी ग्रन्थ पीडीऍफ़ के स्वरूप के में संगृहीत करके अपलोड कर दिया है

पर्सनल बैकग्राउंड

मैं एक सनातनी हिन्दू हू और अपनी सनातन संस्कृत के प्रति मैं बहुत ज्यादा ही आकर्षित हूँ
एक वजह ये भी है की मैं इस साइट पर अपने मित्र जानो की सहायता से चला रहा हूँ
मैं एक साधारण से किसान परिवार से हूँ , एडुकेशन की बात की जाये तो मैंने BA तक की पढाई पूरी कर राखी है
और मेरे साथी जो मेरे साथ इस साइट के लिए काम कर रहे है उन सब की ग्रेजुएशन पूरी करके आगे की पढाई जारी रखी हुई है।

ये ब्लॉग सुरु करने की प्रेरणा मुझे मिली एक विशेष जगह से
मैं प्रतिदिन एक मंदिर जाता हूँ जो मेरे आराध्य देव भगवान् श्री संकट मोचन महाबली हनुमान जी का है
प्रतिदिन जाने की वजह से वहां के पुजारी जी से मेरी अच्छी पहचान हो गई है
एक दिन उन्ही के पास बैठा तो हमारी बात हो रही की आज कल लोग का धर्म के प्रति आकर्षण दिन प्रतिदिन काम होता जा रहा है।
लोग धर्म से बिमुख होते जा रहे है
उनतक सही जानकरी जो चाहिए नहीं पहुंच रही है , लोग आज कल दूरदर्शन के शौकीन है
जो उन्हें दूर दर्शनके माध्यम से परोसा जाता है उसी को सच मान लेते है
लेकिन ये दूर दर्शन वाले आधे से अधिक चीजे मनोरंजन के लिए मिर्चा मसाला दाल के दिखाते है
उन्हें सिर्फ trp बढ़ने से मतलब होता है , धर्म गया तेल लेने। मुझे उनकी ये बात बुरी लगी किन्तु से १०० प्रतिसत सच भी है
तब एक गहन चिनत्न के बाद मुझे ये तरकीब आए की लोग इंटरनेट पर हमेसा बीजी रहते है
तो उनतक सच पहुंचने के लिए कुछ ऐसा इंतजाम किया जाये जिससे ओ धर्म के प्रति जागरूक हो सच का पता चल सके
और हर एक ग्रन्थ सब कोई नहीं खरीद के पढ़ सकता है तो उसको सभी ग्रन्थ एक प्लेट फॉर्म पर उपलब्ध कराया जाये
तब मैंने इस वेबसाइट का निर्माण किय।

Shopping Cart